Thursday, May 5, 2011

आधुनिक बोधकथा-५- `I` से बड़ा `WE?`

`I` से बड़ा `WE?`
 (सौजन्य-गूगल)



" हमको  सब  ढूंढेंगे,   हमारे   जाने के बाद,
  लफ़्ज़  कुछ कहेंगे, मौन  छा जाने के बाद..!!"



===========

प्यारे दोस्तों,
 
एक बार, एक शिक्षा-संस्थान के प्रांगण में,  I,  YOU, और  WE, आमने-सामने आकर ज़िद पर आ गए कि,"संस्था में किसका स्थान ज्यादा महत्वपूर्ण है और सफलता का मीठा-पक्का फल किसे मिलना चाहिए?"

बाद में,जो कुछ घटा,बस आप खुद अपनी आँखो से देख लीजिए..!! 

 
============
 
"अबे, `हुंकार-I` ये तु क्या कर रहा है..रे ?"
 
"अरे..!! चुप करना `सर्वकार-We`, फ़ालतू, बीच में बोलता रहता है..!!  मैं ने तुझे बुलाया क्या?"
 
"नहीं..!!"
 
" तो फिर, क्यूँ अत्यधिक बुद्धिमानी दिखा रहा है? चल हट, हवा आने दे और काम कर अपना..!!" 
 
" पर यार, इस प्रकार? `तुंकार-You` के कंधे पर चढ़कर, खड़े रह कर? इतना ऊँचा? क्या,कर क्या रहे हो, तुम दोनों?"
 
" देख `तुंकार-You`, हम दोनों यहाँ क्या कर हैं, ये बात `सर्वकार-We` को मत बता देना..!!"
 
" हमें सब पता है,`हुंकार-I` और `तुंकार-You`,तुम दोनों क्या कर रहे हो..!!"

" देख `सर्वकार-We`, `ईनफ इज़ ईनफ`, अब ज्यादा  चातुरी दर्शाये बिना, फूट  ना यहाँ से? तुम्हें क्या पता है, तुम्हारे बाप..का..नगाड़ा..!!"

" तुंकार-You, रहने दे-रहने दे..!! हमें सब पता है, तुम लोग हैं ना? उस ऊँचाई पर दिख रहे,`Success`,नाम के फल को तोड़ने की कोशिश कर रहे हो..!!"

" फिर बीच में बोले? `सर्वकार-We`, तुम सब अनपढ़-गवाँरों को इसके बारे में क्या ज्ञान होगा..!! आप लोग तो बस, सिर्फ मज़दूरी करना जानते हो..!! पता है यह ,`Success`,नाम का फल पाने के लिए, हमने `EGO-अहंवाद` यूनिवर्सिटी से, PhD. की डिग्री हासिल की है? तुम सब अनपढ़-गवाँरों के पास इतना ज्ञान है क्या?"

( `तुंकार-You`,ईर्ष्या के कारण, `सर्वकार-We` के सामने आँख मारते हुए..!!)

 
" `सर्वकार-We`, प्लीज़, आप लोग थोड़ा दूर जाकर खड़े रहेंगे? अब और एक शब्द भी बोले तो,ठीक न होगा..!!" 
 
=========

" अरे..!! `तुंकार-You`, ये क्या कर रहा है? ज़रा भी हिला तो मैं तो गिर ही जाऊँगा ना? यहाँ ज़रा सा भी डिगना मत, वर्ना मैं `हुंकार-I`, गिर जाऊँगा..अरे..अरे..अरे..!!
 
(इतने में, `हुंकार-I`,के धड़ाम से गिरने की आवाज़..!!)
 
"अबे..या..आ..र, `तुंकार-You`, ये तुमने क्या किया, आखिर मुझे गिरा ही दिया ना? मैं ,`Success`, फल के कितना करीब पहुँच गया था..!! कर दिया ना बेड़ा गर्क?

" भाई `हुंकार-I`, मुझे ग़लत मत समझना, मेरे पाँव में `jealousy` की खुजली सताने लगी, मैं क्या करूँ ? बुरा मत मानना यार..!!"

"ऊई माँ, वो सब तो ठीक है, मेरे `तुंकार-You`भाई, पर मेरे तो हाथ-पैर टूट जाते ना? हा..य, हे..लॉ, अरे `सर्वकार-We`,तुम्हें कह रहा हूँ..!! वहाँ दूर खड़े-खड़े तमाशा क्या देख रहे हो? मुझे उठने में थोड़ा मदद करो ना मेरे भाई..!!"
 
( `हुंकार-I` के एक बार बुलाने भर  ही, `सर्वकार-We` उसकी मदद के लिए दौड़ते चले आयें और उसे ज़मीन पर से हाथ पकड़ कर `हुंकार-I` को खड़ा होने में, सहायता कि, इतना ही नहीं,  उसकी  `हुंकार -  I Am PhD.` , `EGO-अहंवाद` विषय के, यूनिवर्सिटी द्वारा पहनाये गये, युनिफ़ॉर्म पर लगी हुई मिट्टी को भी साफ करने लगे..!!)
 
" दोस्त,`हुंकार-I` तुमको  ज़मीन दोस्त हुआ देख, मेरी ` jealousy` की खुजली अपने आप मिट गई..!! ही..ही..ही..ही..!!"
 
" `सर्वकार-We`, मेरी सहायता के लिए-Thanks दोस्तों । चलो अब देखते क्या हो..!! `Success` के मीठे-पक्के फल, ना तो अकेले मैं `हुंकार-I`,ना तो अकेले `तुंकार-YOU`,पर  `हुंकार-I + तुंकार-YOU = सर्वकार-We` बनकर, एक होकर, एक दूसरे की सहायता से, एक साथ चखेंगे..!!
 
=========
 
आधुनिक बोध-
 
शरारती,इर्ष्यालु,`तुंकार-YOU` की सहायता से, अकेला `हुंकार-I` , अहंकार भाव धारण करके, जब-जब,`Success` नाम का मीठा-पक्का फल,  अकेले  ही, खाने का स्वार्थी प्रयत्न करता है, तब-तब उसे अनपढ़-गवाँर माने गए, `सर्वकार-We` नाम के मेहनतकश इन्सानों की हमेशा ज़रूरत महसूस होती ही है ।
 
=========
 
प्यारे दोस्तों, इस बोध को, आप कोई भी व्यक्ति,परिवार,कंपनी, संस्था या सत्ता मंडल पर लागू करके देख लें, सभी जगह ये सटीक लागू होता दिख रहा है क्या?
 
मार्कण्ड दवे । दिनांक- ०५-०५-२०११.

2 comments:

  1. अच्छा पोस्ट है ! आभार !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आने का धन्यवाद !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर शिक्षाप्रद कहानी| धन्यवाद|

    ReplyDelete

Note: Only a member of this blog may post a comment.

Ratings and Recommendations by outbrain

Followers

SpellGuru : SpellChecker & Editor For Hindi​​



SPELL GURU